कमज़ोर याददाशत वाले लोगों का दिमाग होता है ज़्यादा तेज़, रिसर्च के बाद हुआ खुलासा

जो लोग जल्दी चीज़ों को भूल जाते हैं उन्हें हमेशा अच्छी याददाशत वाले लोगों से जलन होती है. कई बार कमज़ोर याददाशत वाले लोग इस वजह से शर्मिंदगी भी महसूस करते हैं. उनकी भूली बातों की वजह से कई बार उनके साथ-साथ और भी लोग मुसीबत में पड़ जाते हैं. ज़रा सोचिए आप अपने दोस्तों के साथ कहीं घूमने गए और आपके दोस्त को होटल बुक करवाना ही याद न रहे तो फिर आ गई न मुसीबत.

%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%9c%e0%a4%bc%e0%a5%8b%e0%a4%b0

लेकिन अब क्या करेंगे? मैं बताता हूं जिस दोस्त को होटल बुक करवाना याद न रहा हो उसे ही बोलें कुछ जुगाड़ करने के लिए. इसलिए नहीं कि वो भूल गया इस काम को करना, बल्कि इसलिए की जिनकी याददाशत कमज़ोर होती है वो बाकि लोगों से ज़्यादा समझदार होते हैं. कई बार तो वो बड़े आराम से ख़ुद और दूसरों को भी ऐसी मुसीबतों से निकाल लेते हैं.

%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%9c%e0%a4%bc%e0%a5%8b%e0%a4%b01

ऐसा हम नहीं कह रहे, बल्कि Stanford में हुई एक रिसर्च से पता चला है कि जिनकी याददाशत कमजोर होती है उनका दिमाग आम लोगों से ज़्यादा तेज़ काम करता है और एक ही वक़्त में वो कई चीज़े सोच लेते हैं और इसी कारण वो कई चीज़ों को भूल भी जाते हैं.

%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%9c%e0%a4%bc%e0%a5%8b%e0%a4%b02

California की Stanford University में की गई रिसर्च से ये बात सामने आई है. इस रिसर्च में कहा गया है कि जो लोग ज़्यादा सोचते हैं और अपने काम को बेहतर बनाने के लिए ज़्यादा प्रयास करते हैं, उनका दिमाग पुरानी बातों को ख़ुद हटा कर नई बातों के लिए जगह बना लेता है. यही कारण है कि उन्हें पुरानी बातें याद नहीं रहतीं.

%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%9c%e0%a4%bc%e0%a5%8b%e0%a4%b03

इस रिसर्च को Stanford University के कुछ छात्रों ने किया है, जिसके बाद वहां के प्रोफेसर Michael Anderson का कहना है कि छात्रों ने एक शानदार रिसर्च की है और आने वाले वक़्त में कमज़ोर याददाशत वालों के प्रति लोगों का रवैया बदलेगा.

- Advertisement -

फेसबुक वार्तालाप