ये हैं देश के वो 10 बड़े घोटाले, जिनकी वजह से गिर गई थीं सरकारें

हमारे देश में करीब 125 करोड़ लोगो की आबादी हैं और इसमें आये दिन घोटाले होते रहते हैं जिसमे कुछ घोटाले सब सामने आ जाते हैं और कुछ दबे हुए ही रह जाते हैं ।पर आज हम आप को हमारे देश में हुए कुछ ऐसे घटालो के बारे में बताने वाले हैं जिन्होंने देश में पूरी राजनैतिक डालो को भी हिला दिया ।

आप की जानकारी के लिए बता दे की देश में चारे के घोटाले से लेकर जीप के घोटाले तक काफी ऐसा घोटला जिसने देश म राजनीती को धुजा दिया ।
आये जानते हैं भारत के कुछ घोटालो के बारे में
जीप घोटाला

यह देश में होने वाला पहला घोटाला था। आजादी के बाद भारत सरकार ने एक लंदन की कंपनी से 2000 जीपों को सौदा किया। सौदा 80 लाख रुपये का था।लेकिन केवल 155 जीप ही मिल पाई। घोटाले में ब्रिटेन में मौजूद तत्कालीन भारतीय उच्चायुक्त वी.के. कृष्ण मेनन का हाथ होने की बात सामने आई। लेकिन 1955 में केस बंद कर दिया गया। जल्द ही मेनन नेहरू कैबिनेट में शामिल हो गए।
चारा घोटाला

चारा घोटाला बिहार का सबसे बड़ा घोटाला था और बता दे की ये घोटाले साल 1996 में हुआ था और इसमें करीब 360 करोड़ रुपए का घोटाला किया गया था ।आप की जानकारी के लिए बता दे की इस घोटाले में लालू प्रसाद के साथ साथ काफी दोषी सामने आये थे और अब इस घोटाले का फैसला आ चूका हैं और सरकार ने लालू प्रसाद को दोषी करार किया हैं ।
2जी घोटाला

2जी स्पेक्ट्रम घोटाला साल 2011 के आरंभ में प्रकाश में आया था। यह भारत का बहुत बड़ा घाटाल है। इस घोटाले में पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा पर गाज गिरी।1.76 लाख करोड़ के इस चर्चित घोटाले ने पूरे देश में सनसनी फैलाई। हालांकि सीबीआई की एक विशेष कोर्ट ने घोटाले के सभी आरोपियों को बरी कर दिया है।
मारुति घोटाला

जब मारुती की कम्पनी बन रही थी उस से पहले इसमें घोटाला हुआ था जिसमे भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी का नाम सामने आया था ।इस मामले में पैसेंजर कार बनाने का लाइसेंस देने के लिए संजय गांधी की मदद की गई थी।
यूरिया घोटाला

प्रधानमंत्री नरसिंहराव के करीबी नैशनल फर्टिलाइजर के प्रबंध निदेशक सी.एस.रामाकृष्णन ने यूरिया आयात के लिए पैसे दिए, जो कभी नहीं आया।26 मई, 1996 को 133 करोड़ रुपये घपले का मामला दर्ज हुआ था। इसमें किसी को सजा नहीं हुई।
बोफोर्स घोटाला

1987 में एक स्वीडन की कंपनी बोफोर्स एबी से रिश्वत लेने के मामले में राजीव गांधी समेत कई बेड़ नेता फंसे।मामला था कि भारतीय 155 मिमी. के फील्ड होवित्जर के बोली में नेताओं ने करीब 64 करोड़ रुपये का घपला किया है।
स्टांप घोटाला

स्टाम्प की बहुत बड़ी हेरा फेरी में अब्दुल करीम तेलगी ने देश में करीब 20 हजार करोड़ का चुना लगया था ।
कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाला

कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाले यह करीब 70 हजार करोड़ का घोटाला था। इस खेल के नाम पर जमकर लूट-खसोट हुई। घोटाले के सूत्रधार आयोजन समिति के अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी और उनके सहयोगी रहे।
स्टॉक मार्केट

स्टॉक ब्रोकर केतन पारीख ने स्टॉक मार्केट में 1,15,000 करोड़ रुपये का घोटाला किया। इस घोटाले के मामले में इन्हें दिसंबर, 2002 में गिरफ्तार किया गया।

- Advertisement -

फेसबुक वार्तालाप